Posts

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने देश भर में दिया धरना! कर्ज माफी, और रोज़गार की मांग उठाई !!

Image
29 मई को ऐपवा के आह्वान पर देश भर में स्वयं सहायता समूह (सेल्फ हेल्प ग्रुप) की महिलाओं ने गांव-मोहल्लों में धरना दिया, और महामारी और लॉक डाउन के चलते आपदा की स्थिति में कर्ज माफ़ी और अन्य मांगों को उठाया. बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, असम, कार्बी आंग्लांग, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, ओडिशा, उत्तराखंड, पंजाब, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटका, सहित अन्य राज्यों के सैंकड़ों गांवों और मोहल्लों में ऐसे धरने आयोजित हुए.
धरने की मुख्य मांगें थीं - 1.स्वयं सहायता समूह में शामिल महिलाओं का कर्ज माफ करो! 2.माइक्रो फायनांस कम्पनियों द्वारा दिए गए कर्जों का भुगतान सरकार को करना होगा! 3. हर समूह को उसकी क्षमता के अनुसार या कलस्टर बनाकर रोजगार का साधन उपलब्ध कराओ! 4. एस०एच०जी०(स्वयं सहायता समूह - सेल्फ हेल्प ग्रुप) के उत्पादों की खरीद सुनिश्चित करो! 5. स्वयं सहायता समूह को ब्याज रहित ऋण दो! 6. जीविका कार्यकर्ताओं को न्यूनतम 15 हजार रुपए मासिक मानदेय दो!
यह धरना गांव - मुहल्ले में शारीरिक दूरी का पालन करते हुए आयोजित किया गया.
धरने का नेतृत्व कर रही ऐपवा राष्ट्रीय महासचिव मीना तिवारी ने कहा कि केन्द्र स…

देश भर में महिलाओं ने उठाया सफूरा ज़रग़र के बारे में अभद्र टिप्पणी और दुष्प्रचार करने वाले भाजपा नेता कपिल मिश्रा पर कार्रवाई की मांग

Image
राष्ट्रीय महिला आयोग और प्रधान मंत्री से मांगा जवाब
7 मई को देश भर में  महिला संगठन सफूरा जरग़र के साथ एकजुटता  दिखाई.

सफूरा जरग़र नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ चले आंदोलन में सक्रिय रही है. लॉकडाउन के दौर में सफूरा को दिल्ली में दंगा भड़काने का झूठा आरोप लगाकर गिरफ्तार कर लिया गया है. गिरफ्तारी के समय सफूरा 3 महीने की गर्भवती थी.इसी आधार पर लोगों ने जब सफूरा को रिहा करने की मांग उठाई तो भाजपा नेता कपिल मिश्रा (जो खुद दिल्ली दंगों को भड़काने वाला भाषण देने के आरोपी हैं) ने सफूरा पर भद्दी, अश्लील यौन उत्पीड़न वाली टिप्पणी की. और भाजपा आईटी सेल ने सोशल मीडिया पर सफूरा का चरित्र हनन चलाया, उसके गर्भावस्था और विवाह के बारे में अश्लील दुष्प्रचार चलाया। इस दुष्प्रचार में "We Support Narendra Modi" वाला Facebook पेज की भूमिका को देख, इसे संघ और भाजपा का "ब्वॉइस लॉकर रूम" कहा जा रहा है. 

देश के प्रधानमंत्री और महिला आयोग इस पूरे मामले में कपिल मिश्रा की भूमिका पर चुप्पी साधे हुए हैं. इसलिए महिला संगठनों ने प्रधान मंत्री मोदी और राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष से सवाल करते हु…

Radhika Vemula, Fatima Nafis, journalists, artists and actors join AIPWA call for one-day fast against hate and hunger

Image
Thousands of women across India today responded to the call by All India Progressive Women's Association (AIPWA) for a one-day fast against hate and hunger on 23rd April. 
AIPWA National President Rati Rao, General Secretary Meena Tiwari, Secretary Kavita Krishnan, and AIPWA presidents and secretaries of all States led the way by observing the fast in their own homes, holding placards and posters against the hate, untouchability and violence being unleashed in the name of Covid-19, and calling for women's rights and the rights of the poor and marginalised to be safeguarded during the lockdown. 
Ambedkarite activist Radhika Vemula, as well as JNU student Najeeb Ahmad's mother Fatima Nafees also responded to the call, tweeting out photos of themselves holding placards calling for love and unity against hate and untouchability. In Patna, Prof Bharti S Kumar, historian and AIPWA VP and advocate Alka Varma, journalist Swarnkanta, artist Vinita Varma, and actor Priyanka Khan in…

AIPWA's letter to Prime Minister of India regarding women's rights, nutrition and safety during second phase of Lockdown

To The Prime Minister Government of India
Subject: In the context of women’s rights, nutrition and safety during the second phase of Lockdown
Respected Sir, Yesterday you announced an extension of the Lockdown till 3 May 2020 in order to control the Corona pandemic. While you were announcing the second phase of the Lockdown, we were hoping that you would also announce appropriate measures to resolve the problems faced by women during the past 21 days of Lockdown. Unfortunately, however, your address did not contain any such steps.The guide line issues today of starting some economic activities from 20th april but even in these guide lines women have been ignore.  Sir,over the past 25 days many incidents have come to light which shows the horrific life conditions women are facing.At Jehanabad in Bihar a mother watched helplessly as her child died in her arms due to want of an ambulance. A woman TB patient who had returned from from punjab and was admitted in the quarantine ward was ra…

दिल्ली में नफ़रत की हार, शिक्षा स्वास्थ्य और शाहीन बाग की जीत हुई हैं

Image
ऐपवा नेता कविता कृष्ण कृष्णन ने किया घंटाघर और उजरियांव की औरतों का समर्थन।
UP पुलिस को लगाई फटकार भाकपा माले के केन्द्रीय कमेटी के साथ मनीष शर्मा, रिहाई मंच के अध्यक्ष मोहम्मद शोएब, और सदफ जफर आदि पर फर्जी मुकदमे वापस लो।
आज 11/02/2020 को ऐपवा राष्ट्रीय सचिव कविता कृष्णन ने लखनऊ में घंटाघर पर चल रहे NRC NPR CAA विरोध में आकर अपना समर्थन दिया।
कविता कृष्णन ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि दिल्ली में नफरत की हार, शिक्षा, स्वास्थ्य और शाहीन बाग की जीत हुई है और UP के मुख्यमंत्री का दिल्ली में "गोली मारो" वाला प्रचार फेल हुआ है।
यहां UP में लोग कह रहे हैं - यहां स्वास्थ्य और शिक्षा पर खर्चा क्यों नहीं, UP में नफरत से तो पेट भर नहीं रहा।
AAP की सरकार से मांग है कि वह तुरंत NPR पर रोक लगाने वाला प्रावधान लाएं और केंद्र सरकार पर दबाव बनाएं कि वह CAA NPR NRC वापस लें, और शाहीन बाग की और पूरे देश की आंदोलनकारी महिलाओं से बात करें। NPR NRC CAA से मुस्लिम ही नहीं, गैर मुस्लिम लोगों को भी खतरा है. NPR के तहत सरकारी बाबू या तहसीलदार किसी को भी संदिग्ध नागरिक घोषित कर सकता …

महिला हिंसा रोकने की जवाबदेही से सरकारें भाग रहीं : कविता कृष्णन

Image
ऐपवा का आठवां राज्य सम्मेलन, लखनऊ, 10 दिसंबर. 

देश में महिलाओं के अधिकारों के खिलाफ जैसे युद्ध छिड़ा हुआ है.  कहीं बलात्कार पीड़िता को आग लगा दिया जा रहा है, कहीं उस पर तेजाब फेंका जा रहा है. उत्तर प्रदेश में तो स्थिति और भी बदतर है. यहां भाजपा के विधायक और पूर्व मंत्री बलात्कार के आरोपी हैं. यह बात अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन (ऐपवा) की राष्ट्रीय सचिव कविता कृष्णन ने अमीनाबाद के गंगा प्रसाद वर्मा स्मारक हाल में संगठन के आठवें राज्य सम्मलेन का उद्घाटन करते हुए कही. महिला हिंसा व नफ़रत की राजनीति के खिलाफ सुरक्षा, सम्मान, आजादी और रोजगार के लिए आयोजित सम्मेलन में प्रदेश भर से सैकड़ों महिला प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया, जिसमें हैदराबाद व उन्नाव की घटना में जानें गंवाने वाली महिलाओं को श्रद्धांजली दी गई. 
सुश्री कृष्णन ने कहा कि जब पूरा सत्ता तंत्र बलात्कारी को बचाने में लगा हो, तब कितनी पीड़ित महिलाएं अपने और परिवार पर जान का खतरा मोल लेकर न्याय मांगने आगे आयेंगी. हैदराबाद में एक युवती का सामूहिक बलात्कार और हत्या की गई. उसकी बहन और माता-पिता द्वारा खबर करने के बावज़ूद पुलिस ने एफआई…