बिहिया व नालंदा की घटना के खिलाफ महिलाओं का प्रतिरोध मार्च.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी इस्तीफा दो.भोजपुर के डीएम और एसपी पर तत्काल कार्रवाई करो.


पटना 22 अगस्त 2018
बिहार की तमाम महिला संगठनों ने आज बिहिया में पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में एक महिला को नंगा कर घुमाये जाने और हिंसा किए जाने के विरोध में प्रतिरोध मार्च निकाला. महिला संगठनों ने नालंदा जिले के पावापुरी में एक दलित महिला द्वारा जबरन संबंध बनाए जाने का विरोध करने पर जिन्दा जलाने की शर्मनाक घटना पर गहरा रोष व्यक्त किया है.

आज स्थानीय रेडियो स्टेशन से जुलूस निकला जो डाकबंगला तक गया और फिर सभा में तब्दील हो गई. महिलाओं का हुजूम बिहिया की घटना के साथ बिहार में लगातार महिलाओं पर हो रही हिंसा के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी से इस्तीफे की मांग की. भोजपुर के डीएम और एसपी पर तत्काल कार्रवाई करने की मांग की. बिहिया थाना प्रभारी को बर्खास्त करने और महिलाओं के प्रति घृणा फैलाने वाली ताकतों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की.
डाकबंगला पहुंच कर मार्च एक सभा में तब्दील हो गई. सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जहां हमारी बच्चियों के साथ सरकारी संरक्षण में बालत्कार होता है, जहां भीड़ महिला को निर्वस्त्र कर घुमाया जाता है, जहां जबरन संबंध बनाने का विरोध करने पर महिला को जिंदा जलाने का प्रयास किया जाता है, जहां पुलिस-प्रशासन की मौजूदगी में महिला को नंगा कर घुमाया जाता है और पुलिस तमामशबीन बनी रहती है, उस देश व राज्य की सरकार को सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है.
बिहार की तमाम महिला संगठनों ने बिहिया की घटना के लिए जिम्मेदार पदाधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने और इस जघन्य कांड में शािमल लोगों को कठोर सजा दिलाने की मांग की है. नालंदा के पावापुरी की घटना में जला दी गई महिला के समुचित इलाज और अपराधियों को सख्त सजा दिलाने की मांग की गई. अभी उस महिला का इलाज पीएमसीएच में चल रहा है, वह 80 प्रतिशत जल चुकी है. मार्च में अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन-ऐपवा, बिहार महिला समाज, बिहार विमेंस नेटवर्क सहित कई महिला संगठनों ने हिस्सा लिया. मार्च में ऐपवा की महासचिव मीना तिवारी, ऐपवा की बिहार राज्य अध्यक्ष सरोज चौबे, अनीता सिन्हा, विभा गुप्ता, मधु, माधुरी गुप्ता, समता राय, रीता गुप्ता, नीतू कुमारी, रिया, पूनम, राखी मेहता, बिन्दा देवी, बिहार महिला समाज की सुशीला सहाय, पल्लवी, सुधा अम्बष्ठ, महिला जागरण केंद्र से बीना सहित कई लोग शामिल हुए.

Comments

Popular posts from this blog

महिला संबंधी कानूनों को जानें

महिलाओं पर बढ़ती हिंसा के खिलाफ ऐपवा का प्रदर्शन

On International Women's Day, let's reaffirm our Unity and Pledge for women's Economic Right, Social Dignity and Political Justice