मोदी-नीतीश राज में महिलाओं पर हिंसा की बढ़ती प्रवृत्ति का नतीजा है त्रिवेणीगंज कांड

  • 11 अक्टूबर को पूरे बिहार में होगा राज्यव्यापी प्रतिवाद
  • स्कूली छात्राओं पर हिंसा के खिलाफ ऐपवा-आइसा-इंसाफ मंच द्वारा चलाया जाएगा जनजागरण अभियान.




ऐपवा की महासचिव मीना तिवारी ने 9 अक्टूबर को पटना में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि सुपौल के त्रिवेणीगंज में कस्तूरबा बालिका विद्यालय की छात्राओं पर मुहल्लेवासियों द्वारा संगठित हमला बेहद खौफनाक है. आज ऐसा समय आ गया है कि छेड़खानी करने वाले लफंगों पर कार्रवाई व उन्हें नियंत्रित करने की बजाए मुहल्ले के लोग लड़कियों को ही बर्बरता से पीट रहे हैं. हमारे समाज में यह बिलकुल नई प्रवृत्ति देखने को मिल रही है. आखिर आज ऐसी नौबत क्यों आई?

ऐपवा-इंसाफ मंच व आइसा की एक राज्यस्तरीय जांच टीम विगत 8 अक्टूबर को त्रिवेणीगंज गई थी. इस जांच टीम में भाकपा-माले की राज्य कमिटी की सदस्य व ऐपवा की बिहार राज्य सह सचिव सोहिला गुप्ता, इंसाफ मंच के राज्य अध्यक्ष नेयाज अहमद व आइसा नेता प्रिंस कुमार कर्ण शामिल थे. संवाददाता सम्मेलन को काॅ. मीना तिवारी, जांच टीम के सदस्यों व आइसा के बिहार राज्य अध्यक्ष मोख्तार ने संबोधित किया.
मीना तिवारी ने कहा कि दरअसल भाजपा राज में बलात्कारियों को बचाने और बलात्कार को जस्टिफाई करने की जो संस्कृति विकसित हुई है, उसने नीचे तक जहर घोल दिया है. इसी का नतीजा है कि छेड़खानी का विरोध करने पर छात्राओं को बर्बरता से पीटा जा रहा है. भाजपा द्वारा आज पूरे देश में महिलाओं-दलितों व अकलियतों के खिलाफ नफरत का जो माहौल बनाया गया है, इस तरह की बर्बर घटनायें उसी का परिणाम हैं. केंद्र व पटना की सरकार लड़कियों के उत्थान से संबंधित योजनाओं की चर्चा करते नहीं अघाती लेकिन आज का समय लड़कियों के लिए सबसे भयानक दौर साबित हो रहा है. डीका कांड से लेकर त्रिवेणीगंज तक में यही प्रवृत्ति देखने को मिल रही है. विद्यालय कैंपस में भी लड़कियां पूरी तरह असुरक्षित हैं. मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में तो लड़कियों का सत्ता प्रायोजित उत्पीड़न को ही अंजाम दिया गया.
उन्होंने यह भी कहा कि महिलायें, दलित-मजदूर व मेहनतकश समुदाय ही भाजपा व संघ के निशाने पर हैं. गुजरात में बिहारी मजदूरों पर हमला भाजपा के मजदूर व बिहार विरोधी चरित्र को बेनकाब कर रहा है. महाराष्ट्र में क्षेत्रवादी ताकतों द्वारा बिहारी मजदूरों पर हमले तो लगातार होते रहते हैं लेकिन अब यह प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी के गुजरात में हो रहा है, जिसकी ब्रांडिंग भाजपा जोरशोर से करते रही है. नरेन्द्र मोदी को इसका जवाब देना होगा कि गुजरात में बिहारी मजदूरों को क्यों निशाना बनाया जा रहा है और इस पर दिल्ली व गुजरात की सरकार खामोश क्यों है?
जांच टीम ने पाया कि यह घटना 6 अक्टूबर की शाम 4 से 4.30 बजे की है. त्रिवेणीगंज के ढपरखा मुहल्ले में स्थित कस्तूरबा विद्यालय की लड़कियां स्थानीय लफंगों की फब्तियों का हरदम शिकार होते रहती हैं. उनके स्कूूल व छात्रावास की दीवालों पर गंदी-गंदी तस्वीरों व गालियों के द्वारा उन्हें मानिसक तौर पर परेशान किया जाता रहा है. स्कूल व छात्रावास के बीच दूरी है. सो, आने-जाने के क्रम में इन लफंगों को छात्राओं को छेड़ने का मौका मिल जाता है. 6 अक्टूबर की शाम जब छात्रायें अपने छात्रावास में खेल रही थीं तो लफंगों ने उनके साथ छेड़खानी की कोशिश की. छात्राओं ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया और लफंगों को वहां से भागने के लिए मजबूर किया. कुछ देर बाद मुहल्ले के लोग संगठित होकर लड़कियों पर टूट पड़े और उनकी बर्बर तरीके से पिटाई की.
हमले में कुल 34 छात्रायें घायल हुई हैं. इनमें से अधिकांश दलित व अल्पसंख्यक पृष्ठभूमि की हैं. 5 छात्राओं को अन्य छात्राओं की अपेक्षा कहीं अधिक चोट है. 2 छात्राओं का पता नहीं चल रहा है कि उन्हें कहां भेजा गया? जांच टीम ने कहा है कि छेड़खानी की घटनाएं अक्सर हुआ करती थीं, लेकिन स्कूल प्रशासन/वार्डन ने इसपर कभी ध्यान नहीं दिया. यहां तक कि लड़कियों की शिकायत के बावजूद भी स्कूल प्रशासन ने उसे दबाने का ही प्रयास किया. त्रिवेणीगंज विधानसभा पर कई वर्षों से जदयू का ही कब्जा रहा है. वर्तमान में वीणा भारती वहां की विधायक हैं लेकिन पीड़ित छात्राओं के प्रति इनका रवैया बेहद नकारात्मक है. जांच टीम ने पाया कि दीवारों पर लफंगों ने जो गंदी-गंदी गालियां लिखी थीं उसे इस घटना के बाद ही मिटाया गया. स्कूल प्रशासन ने उसे मिटाने तक की जहमत नहीं उठाई. स्कूल का गेट वर्षों से टूटा पड़ा हुआ है, छत पर आकर लफंगें लड़कियों को गंदे-गंद इशारे करते हैं. उस पर छात्राओं की ही पिटाई की गई और उनसे कुछ अधिक न बोलने को भी कहा जा रहा है.
जांच टीम ने एक बार फिर उन मांगों को दुहराया है जो लंबे समय से कस्तूरबा विद्यालयों के संदर्भ से उठाई जाती रही हैं. एक बार फिर से बिहार के मुख्यमंत्री से कस्तूरबा व अन्य आवासीय विद्यालयों में रह रही लड़कियों की सुरक्षा की गारंटी तथा दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग करती है. त्रिवेणीगंज कस्तूरबा विद्यालय की प्रिंसिपल व वार्डन को भी अपनी जिम्मेवारी ठीक ढंग से नहीं निभाने के कारण उन्हें उनके पद से अविलंब हटाना चाहिए.
इस बर्बर व अचंभित कर देने वाली घटना के खिलाफ 11 अक्टूबर को पूरे बिहार में प्रतिवाद किया जाएगा और पूरे अक्टूबर महीने में स्कूल व अन्य शिक्षण संस्थानों के स्तर पर छात्राओं की आजादी, सुरक्षा व सम्मान के विषय पर जन जागरण अभियान चलाया जाएगा.

Comments

Popular posts from this blog

महिला संबंधी कानूनों को जानें

महिलाओं पर बढ़ती हिंसा के खिलाफ ऐपवा का प्रदर्शन

On International Women's Day, let's reaffirm our Unity and Pledge for women's Economic Right, Social Dignity and Political Justice