ईरानी औरतों की कहानियां

मेरे बालिग होने में थोड़ा वक्त है 

ईरानी फिल्मकार मर्जियेह मेश्किनी ने एक दूसरे बहुत मशहूर फिल्मकार मोहसेन मखलमबाफ की स्क्रिप्ट के सहारे तीन लघु कथा फिल्मों के जरिये ईरानी समाज में औरतों की दुनिया को बहुत संजीदगी से समझने की कोशिश की है. इस कथा श्रृंखला का नाम है द डे व्हेन आइ बीकेम अ वुमन यानि वह दिन जब मैं औरत बनी. इस श्रृंखला की तीन फिल्में हैं - हवा, आहू और हूरा. तीनों क्रमशः बचपन, युवावस्था और बुढ़ापे के काल को अपनी कहानी में समेटने की कोशिश करती हैं.

हम सबसे पहले हवा की कहानी से इस समाज को जानने की कोशिश करते हैं. यह फिल्म नौ साल की उम्र पर कुछ ही घंटों में पहुंचने वाली मासूम बच्ची हवा और उसके अनाथ दोस्त हसन की कहानी है. हवा की हसन के साथ खूब जमती है और फिल्म की शुरुआत ही उसके इस असरार से होती है कि उसे हसन के साथ खेलने जाना है. इस असरार में थोड़ी दूरी पर खड़ा हसन भी है. हवा की दोस्ती की मस्ती में कुछ देर के लिए व्यतिक्रम आता है जब उसकी दादी उसके नौ साल के होने पर आजादी से खेलने पर रोक लगा देती है और हवा से कहती है कि अब उसे औरतों की तरह पेश आना होगा. मासूम हवा के लिए इस रोक के कोई मायने नहीं है. उसे तो बस अपने प्रिय दोस्त हसन के साथ समंदर के किनारे खेलना है. दरअसल आज दुपहर 12 बजे वह नौ साल की हो जायेगी और तब उसे बच्चों वाली सारी छूटें मिलनी बंद हो जायेंगी. उसकी मां और दादी हवा के लिए एक बुरके का इंतजाम करने में भी लगी हैं. उनकी बातचीत से ही हवा को पता चलता है कि वह दुपहर 12 बजे पैदा हुई थी. इस सूत्र को पकड़कर हवा दोनों सीनियर महिलाओं के सामने यह तर्क देती है कि चूंकि उसके औरत बनने में अभी एक घंटे का वक्त बचा है. इसलिए उसे खेलने की मोहलत दी जाय. दादी इस शर्त पर एक घंटे और खेलने के लिए छूट देने पर राजी होती है कि ठीक 12 बजते ही हवा घर को वापिस चल देगी. खेलने पर जाने से पहले उसकी दादी उसे एक डंडी देती है जिसको जमीन में गाड़कर उसकी परछाई से हवा को 12 बजने का पता चल जाएगा.

अब हवा तेजी से अपने दोस्त हसन के घर पहुंचती है. हसन को उसकी बड़ी बहन ने होमवर्क पूरा करने के लिए घर में बंद कर रखा है. जमीन में डंडी गाड़कर हवा खिड़की से हसन को पुकारती है. बीच-बीच में हवा डंडी के नजदीक बनती परछाई को भी नापती रहती है. परछाई का खत्म होना उसके समय के न रहने का सूचक है. हसन को होम वर्क पूर्ण करना है और हवा को उसके साथ घटते हुए बचे-खुचे समय में खेलने का मजा लेना है. आखिरकार हसन उसका मन रखने के लिए कुछ पैसे देता है ताकि हवा खेलने के बदले आइसक्रीम खाने का मजा लूट सके. आइसक्रीम न मिलने पर हवा चटपटी इमली और टॉफी ही ले आती है. बार-बार कम होती परछाई से हवा को अपने मजे के खत्म होने का अहसास होता रहता है. धीरे-धीरे आपस में चटपटी इमली और टॉफी खाना ही एक खेल में बदल जाता है. एक बार हसन खिड़की के सीखचों के पीछे से टॉफी को चूसता है तो फिर उसे हवा भी चूसती है. बीच-बीच में इस मजे को बढ़ाने के लिए चटपटी इमली का स्वाद भी लिया जाता है. जब एक बार और हवा हसन द्वारा जूठी टॉफी को चूसना शुरू करती है तभी समय खत्म होने की सूचना के साथ उसकी मां इस खेल में व्यवधान बनती है. इमली की तरह नाजुक और चुलबुली लड़की अब नौ साल की हो गई है. उसकी मां द्वारा उसे काले हिजाब से ढंकने की कसरत शुरू होती है और फिल्म का अंतिम शॉट परदे पर आता है. यह अंत मिड शॉट में दिखते उसी काले मस्तूल के कपड़े से होता है जिससे फिल्म शुरू हुई थी और वह हवा का ही काला स्कार्फ था जिसे उसने समन्दर के किनारे खड़े लड़कों को मछली वाले खिलौने के बदले दे दिया था.

मुझे हवा में उड़ने दो

ईरानी महिला फिल्मकार मरजियेह मेश्किनि की फिल्म द डे व्हेन आई बीकेम वुमन की तीन छोटी फिल्मों में से दूसरी फिल्म आहू भी ईरानी समाज की महिलाओं के गहरे दुःख और उससे मुक्त होने की चाह की कहानी है।

फिल्म एक ऐसे लैंडस्केप से शुरू होती है जहां एक बड़े भूदृश्य में तेजी से घोड़ा दौड़ाते हुए एक कबीलाई आदमी
आहू-आहू की आवाज लगाते हुए दिखता है. इसके बाद का दूसरा भूदृश्य दर्शकों को थोड़ा दिग्भ्रमित भी करता है जब उसी इलाके में मस्ती से घूमते हुए हिरणों का झुंड भी हमें दिखलाई पड़ता है। यह भ्रम जल्द ही टूटता है जब वह कबीलाई आदमी समुन्दर और पंछियों के झुंड वाले बैकड्रॉप में तेजी से घोड़ा दौड़ाते हुए एक ऐसे समूह के नजदीक पहुंच जाता है जो सिर तक हिजाब चढ़ाए साइकिल को दौड़ाती हुई ईरानी लड़कियों का विशाल समूह है। कबीलाई अपनी बीबी आहू को इन्हीं साइकिल सवारों के बीच खोजता रहता है और आखिरकार आहू तक पहुंच ही जाता है। वह आहू को दौड़ में न भाग लेने की हिदायत देता है। आहू चुपचाप अपना संतुलन दौड़ में लगाने की कोशिश करती है। आखिरकार वह आहू को धमकी देने के साथ अपने घोड़े का मुंह मोड़ता है और अपने हिजाबों और समंदर के किनारे चल रही हवा से लोहा लेती ईरानी लड़कियों का अपनी-अपनी साइकिल के जरिये संघर्ष जारी रहता है।

आहू की दौड़ में शामिल रहने और सबसे आगे रहने की चाह उसके पति की धमकी की वजह से ही नहीं रुकती, बल्कि फिल्म के अगले 20 मिनटों में दौड़ के समानांतर एक दौड़ उसकी जिंदगी में चल रही होती है जब एक-एक करके कई लोग उसे धमकाने आते हैं। जल्द इस क्रम में उसका पति उनके इलाके के धर्मगुरु को ले आता है और अब साइकिल के ट्रैक के अगल-बगल दो घोड़े दौड़ रहे हैं। यह धर्मगुरु उसे समझाता है कि तुम साइकिल नहीं, बल्कि शैतान से जुड़ी चीज चला रही हो। वह उसे तलाक के प्रस्ताव का भी अंदेशा देता है जिसपर आहू अपनी मुहर लगा देती है। अब थोड़ा चैन से वह दौड़ में अपने पिछड़ने को बराबर करने के लिए जोर लगाती है तभी कुछ ही देर में चार घुड़सवार साइकिल ट्रैक पर दिखते हैं जिनमें से एक पर उसका पिता सवार है और वह आहू से अपने कबीले के रीति-रिवाज की दुहाई देते हुए तलाक वाली बात को खत्म करने की सलाह देता है। आखिरकार बूढ़ा सात तक गिनती करके आहू से रिश्ता खत्म करके अपने झुण्ड के साथ वापिस हो जाता है.

आहू साइकिल को जितना साधने की कोशिश करती है उसका कबीला और कबीले के आदमी उसे उतना ही पटरी से उतारने की कोशिश करते हैं। अब वह दौड़ को लगभग खत्म करने और जीतने के करीब है। दर्शक भी ईरानी औरत की विजयी दिखती कहानी के रोमांच में डूबने को होते हैं कि एक बड़े झटके के बतौर अब पांच घुड़सवार भूदृश्य में शैतान के चेलों की माफिक नमूदार होते हैं और उसे चेतावनी देते हैं कि तुमने अपने पिता की बात को ठुकराकर कबीले की इज्जत पर सवाल उठाया है। 

अब तुम्हारे भाई आकर तुम्हे ले जाएंगे। आहू अब दौड़ जीतने को ही है कि ट्रैक पर उसे दो घुड़सवार दिखते हैं जो उसको जबरदस्ती ले जाने वाले उसके ही भाई हैं। आखिर में हम उसे न सिपर्फ दौड़ हारता हुआ देखते हैं बल्कि वह दौड़ के ट्रैक से भी उतारकर वापिस अपने कबीले की तरफ धकेली हुई ले जाते हुई दिखती है.

हूराः अधूरे ख्वाबों की कहानी

मरजियेह मेश्किनि निर्देशित पहली फिल्म द डे व्हेन आई बीकेम अ वुमन की तीसरी लघु फिल्म हूरा एक तरह से पिछली दो कहानियों का ही अंतिम विस्तार हैं और उन दोनों कथानकों पर कही गयी निर्देशिका की अंतिम निर्णायक टिप्पणी भी। इस श्रृंखला की पहली लघु फिल्म हवा में छोटी बच्ची को बहुत जल्दी ही सामाजिक जकड़बंदी में फांसने की कोशिश के तहत खेलने भी नहीं दिया जाता. वहीं दूसरी फिल्म आहू में एक जवान युवती को साइकिल दौड़ में भाग लेने मात्र से विद्रोही समझ लिया जाता और उससे जोर जबरदस्ती करके दौड़ से निकाल लिया जाता है। हूरा इन दोनों फिल्मों के उलट औरत की जीत की कहानी है। यह अलग बात है कि यह जीत एक ऐसी बुढ़िया को मिलते दिखाई देती है जो अपने जीवन के अंतिम वर्षों में है।

झुककर चलती हुई हूरा जब हवाई जहाज से उतरकर शहर की तरफ आगे बढ़ती है तब किसी को अहसास नहीं होता कि कैसी जोरदार कहानी हमें देखने को मिलने वाली है. जल्दी ही बुढ़िया हूरा को हवाई अड्डे पर ट्रॉली चलाने वाला एक किशोर लड़का अपनी ट्रॉली में बैठा लेता है। कहानी तब शुरू होती है जब हूरा उससे बाजार चलने को कहती है जहां उसे बहुत सा फर्नीचर खरीदना है। बहुत शुरू में भी हम इस फिल्म को नहीं पकड़ पाते जब बुढ़िया आम उपभोक्ता की तरह सामान पर सामान खरीदे जा रही है। फिल्म तब समझ में आती है जब समंदर के किनारे पर बुढ़िया के खरीदे सामान से एक एब्सर्ड लैंडस्केप निर्मित हो गया है। इस परिदृश्य में सोफे हैं, किचन है, विशालकाय फ्रिज है,  आदमकद शीशा है और तरह-तरह का सामान अरघनी पर टंगा है। बुढ़िया को यह सब सामान एक बड़े जहाज पर लादकर ले जाना है और उस इलाके के किशोर बच्चे इस खातिर छोटी नावों के इंतजाम में जुटे हैं जो सामान को समंदर के अंदर तक बड़े जहाज के पास ले जाएंगी।

फिल्म तब हमें खास लगती है जब आखिरी हिस्से में समंदर के किनारे फैले सामान को देखते हुए वो लड़कियां आती हैं जो साइकिल दौड़ में आहू के साथ खुद भी साइकिल चला रहीं थीं। वे बुढ़िया से अचरज के साथ कहती हैं कि इन सब सामान का आप क्या करोगी। वे यह भी कहती हैं कि हमें दे दो हमारे दहेज में काम आएगा। बुढ़िया जब यह कहती है कि मैं आजतक अपने मन का कुछ खरीद ही न सकी तो दरअसल वह अपना ही दुःख नहीं व्यक्त कर रही थी, बल्कि उन लड़कियों की कहानी भी कह रही थी और उस बच्ची की भी कहानी कह रही थी जिसे नौ साल का होते ही काले हिजाब से अनुशासन में जकड़ दिया गया। 

मजे की बात है कि बुढ़िया अपनी आखिरी अंगूठी देखते हुए साइकिल वाली लड़कियों से पूछती है, ‘क्या तुम्हें कोई ऐसा सामान दिख रहा है जो मैंने अब तक नहीं खरीदा?’ आखिर में जब बहुत सी नावों में लदकर बुढ़िया और उसका सामान समंदर में जहाज के करीब पहुंच रहा होता है तो बुढ़िया चिल्लाकर किनारों पर खड़ी लड़कियों से कहती है, ‘अरे, मैं तो सिलाई मशीन खरीदना ही भूल गयी।’ 

एक स्वप्न दृश्य की तरह से बुढ़िया नाव पर सवार अपने सपने को पूरा करते दिखाई देती है और किनारे पर साइकिल सवार लड़कियों के अलावा हम हवा फिल्म वाली छोटी लड़की को भी यह सब घटित होता हुए देखते हैं। और फिर जो भी दर्शक इस फिल्म को देखंगे और इस कहानी को पढ़ेंगे वे भी तो अपने-अपने जहाजों को खोजेंगे न? 

- संजय जोशी
(प्रतिरोध का सिनेमा के राष्ट्रीय संयोजक संजय जोशी सिनेमा दिखाने के साथ-साथ नियमित सिनेमा लेखन भी करते हैं. उनके सिनेमा संबंधी इस लेख में वर्णित फिल्मों को हासिल करने या उनकी स्क्रीनिंग के लिए उनसे thegroup.jsm@gmail.com या 9811577426 पर सीधे संपर्क करें.)

Comments

  1. Outstanding post! The post content is really nice. Also, give the useful information from this post. But I like to share the useful details about vidmate app installation. Plz check it and refer it for installing the vidmate app.
    vidmate app download play store for android

    ReplyDelete
  2. Thanks, sir/madam, it is the really nice article. This article gives useful content which I can use in my work. Also read the below.
    Shareit for android

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

महिला संबंधी कानूनों को जानें

महिलाओं पर बढ़ती हिंसा के खिलाफ ऐपवा का प्रदर्शन

On International Women's Day, let's reaffirm our Unity and Pledge for women's Economic Right, Social Dignity and Political Justice